प्रेम प्रसंग में हत्या के मामले में आठ के खिलाफ मुकदमा

policलखनऊ। बस्ती के सोनहा थाना क्षेत्र के भानपुर कस्बे में प्रेम प्रसंग में एक युवक की हत्या के मामले में प्रेमिका के परिवार के आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। घटना की जानकारी युवती ने युवक के परिवार के लोगों को दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मृतक के भाई की तहरीर पर आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। जिसके बाद पुलिस ने पाच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

बस्ती के सोनाहा थाना क्षेत्र के विमल कुमार गुप्त (24) पुत्र बैजनाथ का गल्ला व्यवसायी के घर आना जाना था। कल रात युवक विमल को इन लोगों ने खाने पर बुलाया। विमल गुप्त के घर पहुंचने के कुछ ही देर बाद व्यवसायी की पुत्री ने विमल की छोटी बहन के मोबाइल पर फोन कर बताया कि उसके परिवारवाले विमल की पिटाई कर रहे हैं। यह सुनते ही विमल के घरवाले गल्ला व्यवसायी के घर की ओर भागे। यहा परिजनों को गल्ला व्यवसायी के घर में घुसने से उसके परिवार के लोग जबरदस्ती रोकने लगे। इसी बीच पुलिस को किसी ने सूचना दे दी, मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा खुलवाया लेकिन तब तक परिस्थितिया बदल चुकी थीं और लहूलुहान विमल जमीन पर गिर दम तोड़ चुका था। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया।

पुलिस ने मृतक के भाई राजेश गुप्ता की तहरीर पर कन्हैया अग्रहरि, घनश्याम, कमलेश, दुर्गेश पुत्र राधेश्याम, ज्ञानप्रकाश पुत्र घनश्याम, व घनश्याम की औरत, राधेश्याम की औरत निवासी भानपुर बाबू, प्रेमअग्रहरि पुत्र अज्ञात निवासी कप्तानगंज के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। जब पुलिस विमल के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज रही थी उसी समय एक युवती थाने पर पहुंची और लिखित देकर बताया कि विमल की हत्या उसके परिवारवालों ने की है। उसके भी जान को खतरा है। पुलिस ने बताया मृतक के भाई की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है। यह भी सही है कि राधेश्याम की पुत्री ने थाने पर लिखित तहरीर देकर अवगत कराया है कि विमल की हत्या के बाद अब उसकी जान का खतरा है।

डीएम आवास पर शव रख दिया धरना
ंविमल की मौत के बाद पुलिस की कार्य प्रणाली व मुख्य आरोपी का नाम दर्ज न किए जाने से नाराज परिजन पोस्टमार्टम के बाद डीएम आवास पर शव रख न्याय की माग करने लगे। करीब घटा भर बाद मौके पर पहुंचे सीओ सदर राजेश भारती ने पहले शव हटाने के लिए धमकाना शुरू कर दिया जब परिजन नहीं माने तो पुलिस ने लाठी भाजनी शुरू कर दी। अफरा तफरी मच गई। पुलिस ने जबरन शव को उठवाया और फिर गाड़ी पर लाद कर अंतिम संस्कार के लिए भेजा। सीओ सदर भारती ने कहा कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आठ में से पाच को गिरफ्तार कर लिया गया, फिर डीएम के आवास पर प्रदर्शन का औचित्य नहीं था। मैंने तो केवल उन्हें डराने के लिए लाठी उठाई थी।