वाजपेयी को भारत रत्न मिलना अटल ?

atal-bihari-vajpayeeनरेंद्र मोदी सरकार भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनके 90वें जन्मदिवस के मौके पर 25 दिसंबर को भारत रत्न देने की घोषणा कर सकती है। सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री और वरिष्ठ नौकरशाह ने बताया कि मोदी सरकार की तरफ से पहला भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को दिया जाएगा। मंत्री ने अपना नाम नहीं छापे जाने की शर्त पर बताया, ‘सैद्धांतिक तौर पर इस बात को लेकर सहमति बन चुकी है। सरकार बस एक मौके की तलाश कर रही है। इस बारे में वाजपेयी के 90वें जन्मदिन 25 दिसंबर को घोषणा की जा सकती है।’ हालांकि, इस बारे में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही लेंगे। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अभी तक की परंपरा के मुताबिक भारत रत्न की घोषणा गणतंत्र दिवस के मौके पर की जाती है। उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार के पहले भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी होंगे। बाकी नामों के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी।’ पिछले साल कांग्रेस नीत यूपीए सरकार ने क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और वैज्ञानिक सी एन आर राव को भारत रत्न से नवाजा था। यूपीए सरकार के इस फैसले की बीजेपी ने यह कहकर आलोचना की थी कि वह वाजपेयी को नजरअंदाज कर रही है। बीजेपी ने तब कहा था कि केंद्र में अगर उसकी सरकार बनती है तो वह वाजपेयी को जल्द से जल्द भारत रत्न देगी। इस बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारत रत्न को लेकर अटकलों का बाजार गर्म था लेकिन सरकार ने इस बारे में कोई घोषणा नहीं की। मंत्री ने कहा कि एनडीए की पूर्व सरकार ने भी हमेशा गणतंत्र दिवस के मौके पर ही भारत रत्न की घोषणा की है, न कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर। उन्होंने कहा, ‘कभी भी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारत रत्न की घोषणा नहीं की गई।’ केंद्र की पिछली एनडीए सरकार ने लता मंगेशकर और उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को 25 जनवरी 2001 को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की थी। अमर्त्य सेन को 18 जनवरी 1999, पंडित रविशंकर और गोपीनाथ बारदोली को 30 जनवरी 1999 को जबकि जयप्रकाश नारायण को दिसंबर 1998 में भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की गई थी।