अरे! लड़कियों को बताओ लव जेहाद के मायनेः भागवत

1नई दिल्ली। ‘लव जिहाद’ शब्द सियासी व सामाजिक वर्णमाला से हटने का नाम नहीं ले रहा है। हिंदू लड़कियों को प्यार के जाल में फांसकर शादी करने और फिर उनपर धर्म परिवर्तन का दबाव बनाने के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का विरोध थमता नहीं दिख रहा है।
‘ऐसा करो, लड़कियों को बताओ लव जेहाद के मायने’
संगठन प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि लडकियों को लव जेहाद का मतलब और वो तरीके बताए जाने चाहिए जिससे वे इसमें ‘फंसने’ व अपने बर्वाद होने से बचें। उन्होंने गाजियाबाद के मोहन नगर इलाके में स्थित कृष्णा डेंटल कॉलेज में एक कार्यक्रम में बोलते हुए महिला सशक्तिकरण पर बल दिया। आरएसएस मुखपत्रों पांचजन्य और ऑर्गेनाइजर में भी लव जेहाद का मुद्दा उठाते हुए इसके पीछे सिमी और लश्कर जैसे आतंकवादी संगठनों की साजिश करार दिया जा रहा है। इन दोनों पत्रिकाओं में इस दावे के पक्ष में सबूत के तौर पर अपने तरीके से कुछ तथ्य भी दिए गए हैं।
उत्तर प्रदेश के मेरठ और झारखंड की राजधानी रांची में आए लव जेहाद के मामले को आरएसएस सहित तमाम हिंदू संगठन हिंदू लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराने के नए षढ़यंत्र के रूप में देख रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में विभिन्न संगठन स्कूलों में जाकर लड़कियों को लव जेहाद के मायने बता रही हैं। हालांकि टीवी चैनल की कई बहसों में संगठन नेता साफ कर चुके हैं कि उन्हें प्रेम विवाह से परहेज नहीं है पर बेटियों की जिंदगी के साथ छलावा करने वालों के वे सख्त ख‍िलाफ हैं।