13 साल के लड़के ने बहन से बनाए संबंध, गिरफ्तार

crime-55559ab2e5cc6_exlst13 साल के एक लड़के को अपनी छोटी बहन के साथ दुष्कर्म करने के मामले में 5 साल की सजा सुनाई गई। मामला इंगलैड के कोवेन्ट्री का है जहां एक लड़के ने अपनी बहन का यौन उत्पीड़न करने की बात स्वीकारी है। हादसे के वक्त 10-11 साल की रही पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसका भाई उसे बिस्तर पर लिटा कर कपड़े उतारने के लिए कहता था और फिर उसका यौन उत्पीड़न करता था।

‘मिरर’ की खबर के मुताबिक पड़ोसी महिला के शिकायत करने पर पुलिस ने लड़की से पूछताछ की जो जुर्म के वक्त 10-11 साल की रही होगी। पूछताछ में सामने आया कि लड़की का भाई उसे बिस्तर पर लिटा कर कपड़े उतारने और यौन संबंध बनाने के लिए कहता था। लड़की ने बताया, जिसे आरोपी ने भी स्वीकारा, कि ऐसा हफ्ते में एक बार होता था और उसका भाई उसे अपने फोन पर डाउनलोड किया हुआ अश्लील वीडियो भी दिखाता था।

टकर ने बताया कि इस मामले में बलात्कार के कोई संकेत नहीं हैं लेकिन पीड़िता की उम्र देखते हुए इसे बलात्कार ही माना जाएगा। गिरफ्तार होने पर आरोपी ने स्वीकार कर लिया कि वह अपनी बहन के साथ शारीरिक संबंध बनाता था लेकिन अगर उसकी बहन ने मना किया होता तो वह उसके साथ जबरदस्ती नहीं करता।

crime-55559aed519a6_exlstcrime-55559aed519a6_exlstलड़के ने स्वीकारा किया कि हालांकि उस समय उसे यह नहीं पता था कि वह जो कर रहा है वह गलत है लेकिन उसने अपनी बहन को इस बारे में किसी से कुछ कहने से मना किया था। रिचर्ड मूरे ने बचाव करते हुए कहा,”जिस तरीके से यह जुर्म सामने आया है, उससे यही साफ होता है कि आरोपी समाज के लिए खतरा नहीं है।

दोनो बच्चों में काफी करीबी रिश्ता है लेकिन वह अनुचित ढंग से व्यक्त किया गया है।” मूरे ने कहा कि आरोपी में शर्म और सुधार की गुंजाइश दिख रही है।

लड़के को सजा सुनाते हुए न्यायधीश डी बर्टोडेनो ने उसे बताया,”तुम्हें पता है तुम्हारी बहन के साथ जो हुआ उसके कारण तुम यहां हो। तुमने अपनी बहन के साथ सेक्स किया जो कि उसकी उम्र को देखते हुए कानूनी तौर पर बलात्कार माना जाएगा। इस बात का कोई संकेत नहीं है कि तुमने उसे ऐसा करने पर मजबूर किया, पर यह भी साफ है कि तुम्हें पता था कि तुम गलत कर रहे हो। यह तुम्हारे, तुम्हारी बहन और परिवार के लिए बहुत दुख की बात है”।

न्यायधीश ने लड़के से कहा,”जो सजा तुम्हें दी गई है उसका मतलब है कि ढाई साल तक तुम्हें एक सुरक्षित बाल सुधारगृह में रखा जाएगा और फिर अगले ढाई साल तक तुम्हारा निरीक्षण किया जाएगा।” उन्होंने कहा कि युवा न्याय प्रणाली का उद्देश्य ही युवाओं को गलत रास्ते पर जाने से रोकना है। लोगों में यह विश्वास बनाए रखना जरूरी है कि अगर उनके बच्चों का रेप होता है तो कानून उन्हें न्याय दिलाएगा। कोर्ट ने लड़के को पांच साल की कैद की सजा सुनाई है और जीवन भर के लिए यौन अपराधी दर्ज कर लिया है।