Category Archives: इन्वेस्टीगेशन

देखिए फोटो: 1942 में डूबा था बॉम्बे से चला जहाज, 70 साल बाद मिले 316 करोड़ रु. के सिक्के

coin1_1429093474लंदन। ब्रिटिश क्रू टीम ने साल 1942 में मुंबई से लंदन के लिए चला ब्रिटिश जहाज एसएस सिटी काहिरा को ढूंढने में सफलता पाई है। साथ ही इसमें मौजूद सैकड़ों टन चांदी के सिक्के भी मिल गए हैं। टेलीग्राफ यूके के मुताबिक, सिक्कों की कीमत 50 मिलियन डॉलर (करीब 316 करोड़ रुपए) आंकी गई है।
एसएस सिटी काहिरा आधा यात्री व आधा कार्गो शिप था। जिसे छह नवंबर 1942 में द्वितीय विश्वयुद्ध के समय में जर्मन सबमरीन यू-68 ने डुबा दिया था। चांदी के सिक्कों समेत शिप में सवार 104 यात्रियों की मौत हो गई थी। यह चांदी के सिक्के ब्रिटिश खजाने में जमा किए जाने थे।
डीप ओशन सर्च की टीम ने बताया कि शिप को ढूंढने के लिए समुद्र की रिकॉर्ड गहराई 5150 मीटर तक जाना पड़ा था। टीम ने 2011 से शिप का सर्च ऑपरेशन चला रखा था। जहाज का मलबा मिलने के बाद इसके मिलने की उम्मीद जग गई थी। खराब मौसम और गहराई से सर्च ऑपरेशन के लिए चुनौती थी। आखिर में कई मीटर कीचड़ के अंदर सिक्कों से भरा हुआ बॉक्स बरामद किया गया।

coin2_1429093475

coin3_1429093480

coin4_1429093481

coin5_1429093482

coin6_1429093487

40 फीसदी अमेरिकी महिलाएं शादी से पहले ही बन जाती हैं मां

facts-3_1429103641कहते हैं पुरुष अगर मंगल ग्रह से आए हैं तो महिलाएं शुक्र ग्रह से आई हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि इस दुनिया में महिलाओं को समझना बेहद मुश्किल काम है। महिलाएं किस वक्त पर क्या सोच रही हैं, उन्हें किस वक्त किस चीज की जरूरत है, इसका अंदाजा लगाना काफी मुश्किल है। यहां हम महिलाओं की आदतों, उनकी पसंद और उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ फैक्ट्स बता रहे हैं, जिसके बारे में कम लोगों ने ही सुना होगा।
महिलाओं से जुड़े कुछ फैक्ट्स
1- भारत में शादी से पहले सेक्स पर नैतिक प्रतिबंध है। वहीं, कुंवारी लड़कियों के गर्भधारण की बात तो सोची भी नहीं जा सकती। अमेरिका में 40 फीसदी महिलाएं शादी से पहले ही बच्चे को जन्म दे देती हैं।
2- भारत समेत दक्षिण एशिया और अरब में भ्रूण हत्या जैसी बुरी प्रथाओं के कारण लड़कियों की संख्या घट रही है। लिंग अनुपात में गहरी असमानता है। वहीं, रूस में पुरुषों के मुकाबले 90 मिलियन महिलाएं ज्यादा हैं।
3- दुनिया की सबसे कम उम्र की तलाकशुदा लड़की की उम्र दस साल थी।
4- एक साल में महिलाएं 30 से 64 बार रोती हैं। वहीं, पुरुष एक साल में सिर्फ 6 से 17 बार रोते हैं।
5- यह बात सुनने में भले ही मजाक लगे, लेकिन सच है कि पुरुष औसतन 13000 शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, जबकि महिलाएं लगभग 20 हजार शब्द बोलती हैं।
6- इस बात से आप भी इत्तेफाक रखेंगे कि महिलाओं के पेट में कोई भी बात नहीं पचती। महिलाएं किसी भी खास बात को 47 घंटे और 15 मिनट तक ही गुप्त रख सकती है। इसके बाद ज्वालामुखी फटता है।
7- झूठ के मामले में महिलाएं पुरुषों से काफी पीछे हैं। एक पुरुष दिन भर में 6 बार झूठ बोलता है। वहीं, एक महिला औसतन दिन में दो बार ही झूठ बोल पाती है।
8- शोधकर्ताओं के मुताबिक, महिलाओं को नए जन्मे बच्चे की खुशबू बहुत ज्यादा उत्तेजित करती है। यह उत्तेजना किसी भी ड्रग्स के शिकार व्यक्ति के तड़पने के बराबर होती है।
9- ये मानना जरा मुश्किल होगा, लेकिन लड़कियों को पुरुष खिलाड़ियों के पसीने की गंध पसंद आती है। बात प्राचीन रोम की है, जहां महिलाएं ग्लैडियेटर के पसीने से अपने चेहरे में निखार लाती थीं।
10- ब्रिटेन में औसतन महिलाओं के पास 19 जोड़े जूते और सैंडिल होते हैं। इनमें से वह सिर्फ सात जोड़ी काम में लाती हैं। इसके साथ ही अपनी पूरी जिंदगी में महिलाएं 111 हैंडबैग्स खरीदती हैं।
11- लड़कियां बड़ी चूजी होती हैं। एक शोध के मुताबिक, वे अपना एक साल सिर्फ यह सोच कर निकाल सकती हैं कि उन्हें कौन-से कपड़े पहनने हैं। वहीं, अपने लुक को लेकर वो दिन में कम से कम 9 बार सोचती हैं।
12- महिलाओं और पुरुषों की शारीरिक बनावट में जैसे फर्क है, उसी तरह उनके दिल के धड़कने की रफ्तार भी एक-दूसरे से अलग होती है। महिलाओं का दिल पुरुषों की तुलना में तेज धड़कता है। इसी तरह पुरुष के मुकाबले महिलाओं के जीभ में ज्यादा स्वाद कलिकाएं होती हैं।
13- प्रत्येक 90 सेकंड में दुनिया में एक महिला गर्भावस्था और बच्चे को जन्म देने के दौरान मर जाती है।
14- गर्भाशय का सफल ट्रांसप्लांट कराने वाली दुनिया की पहली महिला पहली बार 2013 में प्रेग्नेंट हुई थी।
15- महिलाओं पर किए गए शोध के मुताबिक, प्रेग्नेंसी के दौरान खर्राटे लेने वाली महिलाओं के बच्चे आकार में बाकी बच्चों की तुलना में छोटे होते हैं।

सैफ से पद्म पुरस्कार वापस लेने पर विचार

15_03_2015-saifali15नई दिल्ली। मुंबई के एक रेस्त्रां में झगड़ा करना बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान के लिए महंगा साबित होने जा रहा है। इसके लिए केंद्र सरकार उनको दिए गए पद्मश्री पुरस्कार वापस लेने पर विचार कर रही है।
गृह मंत्रालय ने हाल में मुंबई पुलिस को फिर पत्र भेज कर पूरे प्रकरण की विस्तृत रिपोर्ट जल्द भेजने के लिए कहा है। इससे पूर्व बवाल की जानकारी होने पर गृह मंत्रालय ने पिछले वर्ष 20 अगस्त को मुंबई पुलिस को पत्र लिख पूरे प्रकरण पर रिपोर्ट मांगी थी। लेकिन मुंबई पुलिस ने मंत्रालय का पत्र का अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है।
एक आरटीआइ अर्जी पर गृह मंत्रालय ने उपरोक्त जवाब दिया है। सूचना का अधिकार (आरटीआइ) कार्यकर्ता सुभाष अग्रवाल को दिए जवाब में मंत्रालय का कहना है, ‘सैफ अली खान के संदर्भ में मंत्रालय के पत्र संख्या 1/3112014 दिनांक 20 अगस्त, 2014 का मुंबई पुलिस की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है। मुंबई पुलिस को मामले में तेजी लाने के लिए फिर पत्र भेजा गया है।’
आरटीआइ कार्यकर्ता अग्रवाल ने अर्जी दायर कर मांग की थी कि एक रेस्त्रां में झगड़ा करने के मामले में अभिनेता के खिलाफ मुंबई की एक अदालत द्वारा आरोप तय किए जाने के बाद खान को प्रदत्त पद्म सम्मान वापस लिया जाए। इस पर कार्रवाई करते हुए गृह मंत्रालय ने मुंबई पुलिस को सात महीने पूर्व पहली दफा पत्र लिखकर रिपोर्ट मांगा था।

अजीबोगरीब सौदा: मकान खरीदो, बीवी मुफ्त मिलेगी !

11_03_2015-winalia11मलेशिया। आपने मकान या फ्लैट खरीदने पर लकी ड्रॉ, गिफ्ट या टूर पैकेज जैसे ऑफर तो सुने होंगे, लेकिन बैठे-बैठाए ‘लाइफ पार्टनर’ मिलने का ऑफर कभी सुना है। चौंकिये मत।
रूढ़िवादी विचारधारा वाले मलेशिया के स्लीमेन शहर में जावा आईलैंड के किनारे वाइना लिया का घर है। घर सिंगल स्टोरी है जिसमें दो बेडरूम, दो बाथरूम, पार्किंग स्पेस व एक फिश पाउंड भी है। वाइना ने मकान की कीमत 75 हजार डॉलर मांगी है। वह ब्यूटी सैलून की मालिक हैं।
मामला, तब सुर्खियों में आया जब मकान की सेल आउट का विज्ञापन इंटरनेट के जरिए सोशल साइट्स पर वायरल हो गया। वैसे तो सबकुछ सामान्य था, लेकिन खरीददारों के लिए मालकिन का ऑफर चौंकाने वाला था। उन्होंने पेशकश की है कि मकान खरीदने वाला शख्स गैर शादीशुदा हो या विधुर (जिस पति की पत्‌नी मर चुकी हो), वह मेरे साथ शादी का ऑफर दे सकता है।
मामला सुखिर्यों में आने के बाद पुलिस, पत्रकार उनके घर पहुंच गए। पत्रकारों से वाइना ने कहा कि मैंने अपने एक मित्र से मकान बेचने के लिए जान-पहचान के कुछ लोगों से इस ऑफर के साथ बात करने को कहा था, लेकिन विज्ञापन साइट से यह इंटरनेट पर वायरल हो गया। अब तमाम खरीददार संपर्क कर रहे हैं।

कश्मीर में बाढ़ से डबल हुए अखरोट के दाम

1नवरात्र से पहले कुछ खास ड्राई फ्रूट्स के दाम आसमान छूने लगे हैं। जम्मू और कश्मीर में आई बाढ़ के चलते अखरोट की कीमतें थोक मार्केट में 60 से 70 पर्सेंट तक बढ़ गई है, जबकि रिटेल में यह 2 महीने पहले के रेट से दोगुनी कीमत पर मिल रहा है। केसर का प्रॉडक्शन सीजन दूर होने के बावजूद इसकी कीमतों पर भी असर दिखने लगा है। कारोबारियों का कहना है कि राज्य में इंफ्रास्ट्रक्चर ठीक होने में अभी काफी वक्त लगेगा, ऐसे में वहां के हर एग्रो प्रॉडक्ट की सप्लाई प्रभावित होगी। खारी बावली में ड्राई फ्रूट्स की होलसेल ट्रेडर परिधि ट्रेडिंग फर्म के मालिक जीके सिंह ने बताया, ‘बाढ़ से अखरोट की सप्लाई और कीमतों पर बुरा असर पड़ा है। जम्मू और कश्मीर में सालाना लगभग 50,000 टन अखरोट का उत्पादन होता है। अमेरिका और चीन के बाद यह सबसे बड़ा उत्पादक है। अनंतनाग, शोपियां और पहलगाम जिलों में इसकी खेती होती है। बाढ़ के चलते फसलों को तो नुकसान हुआ ही है, आगे सप्लाई घटने की की आशंका में मार्केट रेट बढ़ते जा रहे हैं।’ ड्राई फ्रूट्स के लिए देश के सबसे बड़े बाजार खारी बावली में 2 महीने पहले तक अखरोट 750 से 800 रुपये प्रति किलोग्राम के रेट पर बिक रहा था, जो 1,100 से 1,500 रुपये किलोग्राम तक चला गया है। नवरात्र के दौरान अखरोट की डिमांड सबसे ज्यादा होती है, जो दिवाली तक चलती है। प्रसाद, व्रत और मिठाइयों के अलावा ड्राई फ्रूट्स के गिफ्ट पैक के लिए भी इसकी डिमांड आती है। इसके अलावा आयुर्वेदिक मेडिसन फर्मों की ओर से इसकी डिमांड साल भर बनी रहती है। काजू और अखरोट के होलसेलर समीर आहूजा ने बताया कि जम्मू और कश्मीर से अखरोट की सप्लाई घटने के चलते अब चीन और अमेरिका से इम्पोर्ट किया जा रहा है, जो 30-35 पर्सेंट महंगा है। उन्होंने बताया कि जम्मू और कश्मीर की ड्राई फ्रूट्स एक्सपोर्ट प्रमोशन अथॉरिटी ने संकेत दिए हैं कि राज्य के निचले इलाकों में फसल तबाह हो गई है और जिन क्षेत्रों में फसल बची है, वहां उत्पादन पर बुरा असर पड़ेगा। कश्मीर से सालाना करीब 7,000 टन अखरोट एक्सपोर्ट होता है, जो वहां कि इकॉनमी में बड़ी हिस्सेदारी रखता है।

काले धन पर जानकारी साझा करने को जी-20 देश सहमत

1केर्न्‍स (ऑस्ट्रेलिया)। विदेशों में जमा काले धन का पता लगाने और उसे वापस लाने की राह में भारत को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। जी20 देशों के वित्त मंत्रियों ने हर वर्ष के अंत में विभिन्न देशों के कर अधिकारियों से सभी बैंकों की सूचनाएं स्वत साझा करने की अनुमति देने पर रविवार को सहमति जताई है। यह व्यवस्था 2017 से लागू होगी। जी20 देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के बीच हुई बैठक के बाद जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘पारस्परिक आधार पर कर सूचनाओं के स्वत विनिमय के लिए हम वैश्विक आम रिपोर्टिंग मानक को अंतिम रूप देंगे, जिससे सीमा पार कर चोरी को रोकने और उससे निपटने में हम सक्षम हो सकेंगे।’ बयान के मुताबिक, ‘2017 या 2018 के अंत से हम एक दूसरे से और अन्य देशों से सूचनाओं का स्वत: विनिमय शुरू करेंगे।’ दो दिनों के शिखर सम्मेलन के अंत में एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि इस समझौते के तहत विभिन्न देश न केवल इस व्यवस्था के लागू होने की तिथि से बैंकों के विवरण हासिल करने में सक्षम होंगे, बल्कि अनुरोध करने पर उन्हें बीते पांच-छह वर्षो के विवरण भी प्राप्त हो सकेंगे। इस समझौते से भारत सहित कई अन्य देशों को काले धन पर लगाम लगाने में सहायता मिलेगी, क्योंकि बैंक पहले स्थानीय गोपनीय कानूनों का हवाला देकर खाता संबंधी कोई भी सूचना देने से इनकार कर देते थे। बीते मई माह में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने विदेशों में जमा काले धन की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया था। गौरतलब है कि बीते महीने सर्वोच्च न्यायालय ने कहा था कि विदेशों में जमा काले धन की जांच के लिए 2011 में गठित एसआईटी की पहल पर विदेशी बैंकों ने इस दिशा में कुछ प्रगति की है।

एफबी पर पोस्ट नौकरी के रास्ते में बन सकता है रोड़ा

Facebookनई दिल्ली। यदि आप सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं और साथ ही नौकरी की तलाश में हैं, तो आपको काफी सावधान रहने की जरूरत है। सोशल मीडिया पर आपका कोई पोस्ट या किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा आपके बारे में की गई टिप्पणी, आपकी नौकरी की राह में बाधा बन सकते हैं। आज बहुत सी कंपनियां नौकरी के लिए आवेदन करने वाले की पृष्ठभूमि की जांच के लिए सोशल मीडिया पर जानकारी ले रही हैं। यदि सोशल मीडिया पर किसी उम्मीदवार के बारे में कंपनी को नकारात्मक ब्योरा मिलता है, तो उसका आवेदन रद्द कर दिया जाता है। एक सर्वेक्षण में यह तथ्य सामने आया है। जॉब साइट करियरबिल्डर इंडिया के अनुसार करीब 59 फीसद कंपनियां किसी उम्मीदवार के बारे में पड़ताल करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रही हैं। वहीं 33 प्रतिशत अन्य कंपनियां भी जल्द इस प्लेटफार्म का इस्तेमाल करने का इरादा रखती हैं। सर्वेक्षण में एक दिलचस्प तथ्य यह सामने आया है कि सोशल मीडिया पर आवेदकों की पड़ताल करने वाली 68 फीसद कंपनियों को उम्मीदवार के बारे में ऐसी सामग्री मिली जिसकी वजह से उन्होंने उस व्यक्ति को नौकरी नहीं देने फैसला किया। इस सर्वेक्षण के निष्कर्ष देश की 1,200 कंपनियों से मिली प्रतिक्रिया पर आधारित है। सर्वेक्षण में एक और तथ्य सामने आया है कि करीब 75 फीसदी नियोक्ता किसी संभावित पद के उम्मीदवार को ढूंढने के लिए सर्च इंजन गूगल का सहारा ले रहे हैं। कंपनियों द्वारा किसी व्यक्ति का आवदेन खारिज करने की वजहों में उसके द्वारा अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी देना (50 प्रतिशत), अपनी बात पेश करने की क्षमता में कमी (50 प्रतिशत), पोस्ट पर कोई अनुचित फोटो या जानकारी डालना (47 फीसदी), पूर्व नियोक्ता की किसी गोपनीय जानकारी को साझा करना (42 प्रतिशत) शामिल है। इसके अलावा यदि आवेदक ने अपनी शराब पीने या ड्रग लेने की आदत के बारे में पोस्ट किया हो, किसी तरह के आपराधिक व्यवहार में शामिल रहा हो और पुरानी कंपनी या अपने पुराने सहयोगियों के बारे में उलटा सीधा पोस्ट किया हो। करियरबिल्डर की मानव संसाधन उपाध्यक्ष रोजमैरी हेफनर ने कहा, नौकरी चाहने वालों को यह समझना चाहिए कि उन्होंने इंटरनेट पर क्या पोस्ट किया है या उनके बारे में दूसरों ने क्या लिखा है, दोनों ही महत्वपूर्ण हैं। इससे उनकी नौकरी पाने की क्षमता पर असर पड़ सकता है। हालांकि, कई कंपनियों ने कहा कि यदि उन्हें किसी उम्मीदवार की पृष्ठभूमि के बारे में सोशल मीडिया से अच्छी जानकारी मिलती है, तो वे उसे नौकरी देना पसंद करते हैं।

CBI चीफ के घर क्या करने आते थे 2जी घोटाले के आरोपी?

1नई दिल्ली। सीबीआई डायरेक्टर रंजीत सिन्हा पर आरोप लगा है कि उनके घर 2जी घोटाले और भ्रष्टाचार के अन्य मामलों के आरोपी आया करते थे, जो जांच को प्रभावित कर सकते थे। सुप्रीम कोर्ट इन आरोपों की सच्चाई जांचने वाला है। आम आदमी पार्टी के नेता प्रशांत भूषण ने इस संबंध में याचिका दायर करके जांच की मांग की है। प्रशांत ने जस्टिस एचएल दत्तू की बेंच से दरख्वास्त की है कि सीबीआई प्रमुख के दिल्ली स्थित घर पर आने जाने वाले लोगों के रिकॉर्ड खंगाले जाएं। प्रशांत एनजीओ सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन (सीपीआईएल) का प्रतिनिधित्व भी करते हैं जो 2जी मामले में याचिकाकर्ताओं में से एक है।
प्रशांत के पास हैं रजिस्टर के डिटेल्स
2010 में प्रशांत भूषण की याचिका के बाद ही कोर्ट ने 2जी स्पेक्ट्रम के लाइसेंस रद्द कर दिए थे। अब उन्होंने आरोप लगाया है कि रंजीत सिन्हा के घर पर आने-जाने वाले लोगों के रजिस्टर में कई ‘प्रभावशाली’ नाम हैं और ये नाम 2जी स्पेक्ट्रम और कोयला घोटाले के आरोपियों से जुड़े हुए हैं।
प्रशांत भूषण ने उस खबर का भी हवाला दिया, जिसमें दावा किया गया था कि पिछले 15 महीनों में 2जी स्कैम में फंसी एक कंपनी के उच्च अधिकारी सीबीआई डायरेक्टर के घर पर कई बार मिलने पहुंचे। प्रशांत के मुताबिक, उनके हाथ जो दस्तावेज लगे हैं वे ‘विस्फोटक’ और ‘विचलित करने वाला’ बताया है।

चूहे ने कुतरा बैग, रेलवे को देना होगा 15000 हर्जाना

1नई दिल्ली। सफर के दौरान यात्री को हुए नुकसान के लिए कंज्यूमर कोर्ट ने रेलवे को 15000 रुपये का हर्जाना देने का निर्देश दिया है। एक रिटायर्ड कर्मी रेलवे में यात्रा कर रहा था, यात्रा के दौरान चूहे यात्री की बैग कुतर दी। मामला नई दिल्ली की उपभोक्ता अदालत में पहुंचा तो कंज्यूमर फोरम के अध्यक्ष सीके चतुर्वेदी ने रेलवे को उपरोक्त धनराशि हर्जाने के तौर पर यात्री को देने का निर्देश जारी किया है। नई दिल्ली निवासी आरके बंसल ने अपने वाद में कहा था कि यह रेलवे की जिम्मेदारी है कि वह ट्रेन की बोगियों को साफ-सुथरा रखे। लेकिन रेलवे अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाती है। जिसकी वजह से ऐसा हुआ। मामले की सुनवाई कर रही बेंच के सदस्यों ने कहा कि रेलवे की गैर जिम्मेदारी की वजह से बंसल को नुकसान उठाना पड़ा है। बंसल ने फोरम को बताया था कि 8 अक्टूबर 2013 को वह केरल एक्सप्रेस से नई दिल्ली से एर्नाकुलम जा रहे थे। यात्रा के दौरान चूहों ने उनका बैग कुतर के उनके कपड़ों को टुकड़े-टुकड़े कर दिया। इसे रेलवे की लापरवाही मानते हुए उन्होंने फोरम में शिकायत की थी जिसके लिए 18,400 रुपये हर्जाने के तौर पर मांग की थी।

वाजपेयी को भारत रत्न मिलना अटल ?

atal-bihari-vajpayeeनरेंद्र मोदी सरकार भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनके 90वें जन्मदिवस के मौके पर 25 दिसंबर को भारत रत्न देने की घोषणा कर सकती है। सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री और वरिष्ठ नौकरशाह ने बताया कि मोदी सरकार की तरफ से पहला भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को दिया जाएगा। मंत्री ने अपना नाम नहीं छापे जाने की शर्त पर बताया, ‘सैद्धांतिक तौर पर इस बात को लेकर सहमति बन चुकी है। सरकार बस एक मौके की तलाश कर रही है। इस बारे में वाजपेयी के 90वें जन्मदिन 25 दिसंबर को घोषणा की जा सकती है।’ हालांकि, इस बारे में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही लेंगे। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अभी तक की परंपरा के मुताबिक भारत रत्न की घोषणा गणतंत्र दिवस के मौके पर की जाती है। उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार के पहले भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी होंगे। बाकी नामों के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी।’ पिछले साल कांग्रेस नीत यूपीए सरकार ने क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और वैज्ञानिक सी एन आर राव को भारत रत्न से नवाजा था। यूपीए सरकार के इस फैसले की बीजेपी ने यह कहकर आलोचना की थी कि वह वाजपेयी को नजरअंदाज कर रही है। बीजेपी ने तब कहा था कि केंद्र में अगर उसकी सरकार बनती है तो वह वाजपेयी को जल्द से जल्द भारत रत्न देगी। इस बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारत रत्न को लेकर अटकलों का बाजार गर्म था लेकिन सरकार ने इस बारे में कोई घोषणा नहीं की। मंत्री ने कहा कि एनडीए की पूर्व सरकार ने भी हमेशा गणतंत्र दिवस के मौके पर ही भारत रत्न की घोषणा की है, न कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर। उन्होंने कहा, ‘कभी भी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारत रत्न की घोषणा नहीं की गई।’ केंद्र की पिछली एनडीए सरकार ने लता मंगेशकर और उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को 25 जनवरी 2001 को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की थी। अमर्त्य सेन को 18 जनवरी 1999, पंडित रविशंकर और गोपीनाथ बारदोली को 30 जनवरी 1999 को जबकि जयप्रकाश नारायण को दिसंबर 1998 में भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की गई थी।