Category Archives: प्रमुख खबरें

दलाई लामा के दौरे पर भारत का चीन को दो-टूक, कहा- अंदरुनी मामलों में दखल ना दे

केद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने तिब्बती आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाई लामा के भारत दौरे को राजानीतिक दौरा कहे जाने पर आपत्ति जताई है| भारत ने दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर चीन की आपत्ति पर कहा कि ‘कृत्रिम विवाद’खड़ा करने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि उनका दौरा राजनीतिक नहीं है|

नई दिल्ली: केद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने तिब्बती आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाई लामा के भारत दौरे को राजानीतिक दौरा कहे जाने पर आपत्ति जताई है| भारत ने दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर चीन की आपत्ति पर कहा कि ‘कृत्रिम विवाद’खड़ा करने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि उनका दौरा राजनीतिक नहीं है.

दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पूरी तरह धार्मिक

गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने कहा कि दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पूरी तरह धार्मिक है और इसका कोई राजनीतिक अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए. भारत ने चीन से कहा कि वह हमारे अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करे क्योंकि अरुणाचल प्रदेश हमारा अभिन्न हिस्सा है. रिजीजू ने कहा कि भारत चाइना पॉलिसी का सम्मान करता है. गौर हो कि दलाई लामा 18 अप्रैल तक अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर हैं. चीन ने दलाई लामा का भारत यात्रा पर आपत्ति जताई थी.

तनाव के बीच दलाई लामा का दौरा

तिब्बती आध्यात्मिक गुरू दलाई लामा का यह दौरा उस वक्त हो रहा है जब कई मुद्दों को लेकर भारत-चीन संबंधों में तनाव चल रहा है .
चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपेक) के पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से होकर गुजरने, परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की सदस्यता के प्रयास को अवरूद्ध करने तथा जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित कराने के कदम को बीजिंग द्वारा रोकने को लेकर भारत-चीन संबंधों में तनाव आया है.

चीन ने जताई थी आपत्ति

चीन ने यह भी कहा था कि दलाई लामा 1959 में ‘विफल सशस्त्र विद्रोह’ के बाद भागकर भारत गए और वह ‘अलगाववादी गतिविधि’ में शामिल रहे हैं. दलाई लामा के एक बयान के बारे में पूछे गए सवाल के लिखित जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय ने से कहा, ‘उनके बयान चीन विरोधी अलगाववादी उद्देश्य की पूर्ति करते हैं और वे तथ्यों से परे हैं.’

चीन अरूणाचल पर दावा करता है

चीन ने कहा था कि भारत की ओर से तिब्बत के निर्वासित नेता को अरूणाचल यात्रा की अनुमति देने से द्विपक्षीय संबंधों को ‘गंभीर नुकसान’ होगा . चीन ने नई दिल्ली से ‘चुनने’ के लिए कहा था . एक महीने में दूसरी बार भारत को दी गई चेतावनी में चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि दलाई लामा को अरूणाचल यात्रा के लिए अनुमति देने के भारत के फैसले से वह गंभीर रूप से चिंतित है. गौरतलब है कि चीन अरूणाचल को दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताकर उस पर दावा जताता रहा है .

J&K के शोपियां में सेना के काफिले पर आतंकी हमला; तीन जवान शहीद, एक महिला की मौत

कश्मीर के शोपियां जिले में आज आतंकियों ने सेना के गश्ती दल पर घात लगाकर हमला कर दिया जिसमें तीन जवानों और एक महिला की मौत हो गई। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकियों ने सुरक्षा बलों के गश्ती दल पर तब हमला कि जब वह शोपियां के चित्तरगाम इलाके में तलाशी और घेराबंदी के अभियान पर जा रहा था। उन्होंने बताया कि इस हमले में सेना के तीन जवान शहीद हो गए जबकि जाना बेगम नामक महिला की गोली लगने से मौत हो गई। हमले में पांच अन्य जवान घायल हो गए।

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के शोपियां में गुरुवार सुबह सुरक्षाबलों के काफिले पर आतंकवादियों ने हमला कर दिया। कश्मीर के शोपियां जिले में आज आतंकियों ने सेना के गश्ती दल पर घात लगाकर हमला कर दिया जिसमें तीन जवानों और एक महिला की मौत हो गई। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकियों ने सुरक्षा बलों के गश्ती दल पर तब हमला कि जब वह शोपियां के चित्तरगाम इलाके में तलाशी और घेराबंदी के अभियान पर जा रहा था।

उन्होंने बताया कि इस हमले में सेना के तीन जवान शहीद हो गए जबकि जाना बेगम नामक महिला की गोली लगने से मौत हो गई। हमले में पांच अन्य जवान घायल हो गए। सेना का काफिला आतंकवादियों के खिलाफ एक ऑपरेशन करके लौट रहा था कि तभी रात 2.30 बजे के आसपास भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद सेना ने इस इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया लेकिन आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। घायल जवानों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।

(एजेंसी)

महाराष्‍ट्र निकाय चुनाव रिजल्‍ट LIVE: BMC में किसी को बहुमत नहीं, शिवसेना सबसे आगे; बाकी निगमों में बीजेपी का बेहतर प्रदर्शन

महाराष्ट्र में गुरुवार को बृहन्मुंबई नगर निगम सहित 10 नगर निकायों, 25 जिला परिषदों और 283 पंचायत समितियों के चुनावों के लिए मतगणना जारी है, जिसके नतीजों का सीधा असर भाजपा और शिवसेना के आगामी रिश्तों पर पड़ने की उम्मीद है। दोनों पार्टियां (बीजेपी और शिवसेना) सत्ता में एकसाथ होने के बावजूद अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं। बीएमसी और अन्‍य निकाय चुनाव के लिए वोटों की गिनती आज सुबह शुरू हुई।

मुंबई : महाराष्ट्र में गुरुवार को बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) सहित 10 नगर निकायों, 25 जिला परिषदों और 283 पंचायत समितियों के चुनावों के लिए मतगणना जारी है। अब तक के नतीजों के अनुसार, सात निकायों में बीजेपी बेहतर प्रदर्शन के साथ सबसे आगे है। शिवसेना ने दो निकायों में बढ़त हासिल की है। एनसीपी एक निकाय में आगे है। इन नतीजों का सीधा असर भाजपा और शिवसेना के आगामी रिश्तों पर पड़ने की उम्मीद है। दोनों पार्टियां (बीजेपी और शिवसेना) सत्ता में एकसाथ होने के बावजूद अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं। बता दें कि बता दें कि बीएमसी सहित महाराष्ट्र के 10 नगर निगमों, 25 जिला परिषदों एवं 283 जिला पंचायतों पर हुई वोटिंग के लिए आज सुबह 10 बजे मतगणना शुरू हुई।

लाइव अपडेट:-

-बीएमसी चुनाव में अब तक 227 में 225 सीटों के नतीजें घोषित हो चुके है। शिवसेना 84 सीटें जीतकर सबसे आगे है। बीजेपी 80 सीटों की जीत के साथ दूसरे नंबर पर काबिज है। कांग्रेस 31, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना 7, एनसीपी 9, एमआईएम 1, अन्य 5 और एबीएस ने एक सीट पर जीत हासिल की है।

-बीएमसी चुनाव में शिवसेना आगे। किसी भी दल को बहुमत नहीं।

-बीएमसी की 227 सीटों पर हो रही मतगणना के अब तक प्राप्‍त नतीजों (जीत और बढ़त) के मुताबिक, शिवसेना 92 सीटों के साथ सबसे आगे है जबकि भाजपा 77 सीटों पर आगे हैं। वहीं, कांग्रेस 29 सीटों पर आगे है। एनसीपी 8, एमएनएस ने 4 और अन्‍य ने 14 सीटें जीती हैं।

-मुंबई और ठाणे निकाय में शिवसेना सबसे आगे।

-पिंपड़ी चिंचवाड़ में एनसीपी सबसे आगे।

-बीएमसी चुनावों में पार्टी के फीके प्रदर्शन के बाद मुंबई प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने इस्तीफे की पेशकश की।

-मुंबई बीजेपी अध्‍यक्ष आशीष शेलार के भाई विनोद चुनाव हारे।

-बीजेपी सांसद किरीट सोमैया के बेटे नील ने वार्ड नंबर 108 से जीत दर्ज की।

-नासिक नगर निगम में भाजपा आगे और शिवसेना दूसरे स्‍थान पर।

-ठाणे निकाय चुनाव में शिवसेना पहले स्‍थान पर और बीजेपी दूसरे स्‍थान पर।

-7 नगर निकायों में बीजेपी का अच्‍छा प्रदर्शन। नासिक, सोलापुर, नागपुर, अमरावती, पुणे में बीजेपी को भारी बढ़त।

-दो निकायों (मुंबई और ठाणे) में शिवसेना का बेहतर प्रदर्शन।

-महाराष्‍ट्र महानगरपालिक चुनाव के अब तक प्राप्‍त नतीजों में कुल मिलाकर बीजेपी पहले स्‍थान पर।

-ताजा जानकारी के अनुसार, कुल दस में से 8 निकायों के नतीजों में बीजेपी पहले स्‍थान पर और शिवसेना दूसरे नंबर पर चल रही है। नासिक, सोलापुर, नागपुर, अमरावती, पुणे में बीजेपी ने बढ़त बना रखी है।

-मुंबई में शिवसेना नंबर एक और बीजेपी दूसरे स्‍थान पर चल रही है।

-बीएमसी की 227 सीटों के लिए वोटों की गिनती जारी।

-ठाणे में शिवसेना नंबर एक, बीजेपी दूसरे नंबर पर।

-पुणे में बीजेपी पहले स्‍थान पर और शिवसेना दूसरे स्‍थान पर।

-उल्‍हासनगर और दादर में शिवसेना आगे1

-सोलापुर में बीजेपी आगे।

-पिंपरी चिंचवाड़ में बीजेपी पहले, शिवसेना दूसरे स्‍थान पर।

-अमरावती से बीजेपी की रीता पंडोलो के निर्विरोध जीतने की खबर है।

-निकाय चुनावों के लिए वोटों की गिनती शुरू। मुंबई के अलावा ठाणे, उल्हासनगर, नासिक, पुणे, पिम्परी-चिंचवाड, शोलापुर, अकोला, अमरावती और नागपुर के नगर निगमों के लिए भी मतों की गिनती शुरू।

— ANI (@ANI_news) February 23, 2017
बीजेपी, शिवसेना के अलावा ‘लघु आम चुनावों’ के नाम से पहचाने जाने वाले इन चुनावों में कांग्रेस और राकांपा भी मैदान में हैं। सबकी नजर संसाधन संपन्न बृहन्मुंबई नगर निगम पर है जिसकी 227 सीटों पर लड़े जा रहे इन चुनावों का मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ भाजपा और शिवसेना के बीच है। आज सुबह 10 बजे शुरू हुई मतगणना में 10 नगर निगमों, 25 जिला परिषदों और 283 पंचायत समितियों की 5,777 सीटों पर किस्मत आजमा रहे 21,620 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है। इन सीटों पर मतदान दो चरणों में हुए थे। मंगलवार को 10 नगर निगम सीटों पर मतदान करीब 56 प्रतिशत और बीएमसी में करीब 55 प्रतिशत मतदान हुआ था। इसके अलावा जिला परिषदों और पंचायत समितियों में 69 प्रतिशत मतदाताओं ने मत डाले थे।

विपक्षी पार्टी कांग्रेस, राकांपा और मनसे एवं एआईएमआईएम जैसे अन्य दलों को पीछे छोड़ते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में उनकी पार्टियों ने जमकर प्रचार किया। मुंबई के अलावा ठाणे, उल्हासनगर, नासिक, पुणे, पिंपरी-चिंचवाड़, सोलापुर, अकोला, अमरावती और नागपुर में भी नगर निगम चुनाव हुए। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 2,275 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है।

जम्मू-कश्मीर : LoC पर एक आतंकी मारा गया, घुसपैठ की कोशिश नाकाम

जम्मू के राजौरी के केरी सेक्टर मे एलओसी पर बीएसएफ (बोर्डर सेक्यूरिटी फोर्स) ने एक आतंकी को मार गिराया और घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। सोमवार देर रात को बीएसएफ के जवानों ने एलओसी पर कुछ संदिग्ध हरकत देखी। रिपोर्ट के मुताबिक तीन से चार आतंकी फेंस के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे जब उन्होंने जवानों को देखा तो उनपर गोलीबारी शुरू कर दी।

राजौरी : जम्मू के राजौरी के केरी सेक्टर मे एलओसी पर बीएसएफ (बोर्डर सेक्यूरिटी फोर्स) ने एक आतंकी को मार गिराया और घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। सोमवार देर रात को बीएसएफ के जवानों ने एलओसी पर कुछ संदिग्ध हरकत देखी। रिपोर्ट के मुताबिक तीन से चार आतंकी फेंस के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे जब उन्होंने जवानों को देखा तो उनपर गोलीबारी शुरू कर दी।

करीब आधे घंटे तक आतंकियों ने बीएसएफ जवानों पर भारी गोलाबारी की लेकिन जवाबी कार्रवाई मे एक आतंकी मारा गया और बाकी बचे हुए आतंकी जंगल का फायदा उठाकर भाग गए। सुबह उस इलाके की तलाशी ली गयी तो वहां से एक वाटर प्रूफ काला बैग मिला। एक नाईट विजन डिवाइस ,मोनोकुलर,एक एक -47 राइफल मैगजीन के साथ मिली। इसके अलावा ड्राई फ्रूट्स और जूस भी वहां से मिला। शव के साथ एक-47 राइफल भी कारतूस के साथ बरामद किया गया।

इस तरह सेना ने आतंकी को ढेर करने के साथ सीमापर घुसपैठ की कोशिश को भी नाकाम कर दिया। गौर हो कि पिछले 50 दिनों मे सुरक्षा बलों ने 22 से अधिक आतंकी मार गिराए है । मारे गए आतंकियों का ये आंकड़ा 2010 के बाद सबसे अधिक है।

समाजवादी पार्टी नेता राजेंद्र चौधरी का आपत्तिजनक बयान, PM नरेंद्र मोदी और अमित शाह को बताया आतंकी

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र चौधरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ आपत्तिजनक बयान देकर विवादों में घिर गए हैं। सपा के मुख्य प्रवक्ता एवं अखिलेश यादव के करीबी माने जाने वाले राजेंद्र चौधरी ने पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आतंकी करार दे दिया है। उन्होंने कहा कि दोनों आतंक पैदा करते हैं।
नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र चौधरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ आपत्तिजनक बयान देकर विवादों में घिर गए हैं। सपा के मुख्य प्रवक्ता एवं अखिलेश यादव के करीबी माने जाने वाले राजेंद्र चौधरी ने पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आतंकी करार दे दिया है। उन्होंने कहा कि दोनों आतंक पैदा करते हैं।

रविवार को तीसरे चरण के मतदान के बाद मीडिया से बात करते हुए चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह दोनों आतंकवादी हैं। चौधरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में गुजरात के दो जादूगर जोर-शोर से घूम रहे हैं। इनको लगता है कि उत्तर प्रदेश का वोटर राजनीति नहीं जानता और उसको गुमराह किया जा सकता है, लेकिन यहां का मतदाता राजनीति की मर्यादा के खिलाफ काम करने की अनुमति नहीं देगा। जनता को गुमराह करना एक राजनीतिक अपराध है। इन जादूगरों को अपनी रोजी-रोटी के लिए दूसरा धंधा अपनाना चाहिए।

जाकिर नाइक के एनजीओ IRF के दाउद इब्राहिम से संबंध, CFO आमिर गजधर ने किया खुलासा

विवादास्पद उपदेशक जाकिर नाइक के करीबी और उसके सीएफओ आमिर गजधर ने बड़ा खुलासा किया है। उसने पूछताछ में यह बताया है कि जाकिर के एनजीओ आईआरएफ यानी इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के लिए दाउद इब्राहिम भी फंडिंग करता था और एनजीओ आईआरफ के संबंध दाउद इब्राहिम से भी थे। आमिर ने कहा है कि दाउद ने एनजीओ आईआरएफ के लिए फंडिंग की थी। आईआरएफ के लिए पाकिस्तान और दुबई से फंडिंग होती थी। फंडिंग में हवाला डीलर सुल्तान अहमद बिचौलिया था।

नई दिल्ली: विवादास्पद उपदेशक जाकिर नाइक के करीबी और उसके सीएफओ आमिर गजधर ने बड़ा खुलासा किया है। उसने पूछताछ में यह बताया है कि जाकिर के एनजीओ आईआरएफ यानी इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के लिए दाउद इब्राहिम भी फंडिंग करता था और एनजीओ आईआरफ के संबंध दाउद इब्राहिम से भी थे। आमिर ने कहा है कि दाउद ने एनजीओ आईआरएफ के लिए फंडिंग की थी। आईआरएफ के लिए पाकिस्तान और दुबई से फंडिंग होती थी। फंडिंग में हवाला डीलर सुल्तान अहमद बिचौलिया था।

गौर हो कि प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने विवादास्पद उपदेशक जाकिर नाइक और अन्य के खिलाफ धनशोधन की अपनी जांच के सिलसिले में 16 फरवरी को उसके करीबी आमिर गजधर को गिरफ्तार किया था। अधिकारियों ने दावा किया था कि एजेंसी केा संदेह है कि गजधर ने नाइक और उनके एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) की ओर से 200 करोड़ रुपये के नगद लेन-देन का कथित काम किया था। आईआरएफ के पीस टीवी के लिए गजधर की कंपनी कथित रूप से सामग्री प्रदान करती थी।

ईडी ने जाकिर नाइक को भी सम्मन जारी किया है जिनका अबतक एजेंसी के सामने पेश होना बाकी है क्योंकि वह विदेश में बताये जाते हैं। इससे पहले राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने 51 वर्षीय नाइक के खिलाफ विभिन्न धार्मिक समूहों के बीच वैमनस्य को कथित रूप से बढ़ावा देने को लेकर आतंकवाद निरोधक कानूनों के तहत मामला दर्ज किया था। बताया जाता है कि नाइक गिरफ्तारी से बचने के लिए सउदी अरब में हैं, दरअसल पिछले साल के ढाका आतंकी हमले के कुछ हमलावरों ने दावा किया था कि उन्हें नाइक से प्रेरणा मिली थी।

(एजेंसी)

नकदी में दो लाख से अधिक के गहनों की खरीद पर लगेगा टैक्स

नई दिल्ली, प्रेट्र। पहली अप्रैल से आपको दो लाख रुपये से अधिक की ज्वैलरी कैश में खरीदने पर एक फीसद टैक्स देना होगा। अभी स्रोत पर एकत्रित इस टैक्स यानी टीसीएस के लिए नकदी खरीद की सीमा पांच लाख रुपये है। वित्त विधेयक 2017 पारित होने के बाद गहने भी सामान्य वस्तुओं की कैटेगरी में आ जाएंगे। सामान्य वस्तुओं पर दो लाख से अधिक की नकद खरीद पर एक प्रतिशत टीसीएस देना होता है। पिछले बजट में यह टैक्स लगाया गया था। वित्त विधेयक 2017 में टीसीएस के लिए कैश में गहनों की पांच लाख से अधिक की खरीद सीमा को खत्म करने का प्रस्ताव है। इसकी वजह यह है कि 2017-18 के बजट में तीन लाख रुपये से अधिक के नकदी सौदों पर पाबंदी लगा दी गई है। यह भी पढ़ें: शादी के 8 दिनों बाद ही गहने और नकदी समेत फरार हुई दुल्हन इसका उल्लंघन करने पर नकदी लेने वाले व्यक्ति पर उतनी ही राशि का जुर्माना लगाने का प्रावधान है। यानी अगर आप पांच लाख रुपये की ज्वेलरी कैश देकर खरीदते हैं, तो ज्वैलर को सीमा से अधिक की दो लाख रुपये की राशि के बराबर पेनाल्टी चुकानी होगी। चूंकि ज्वैलरी की खरीद के लिए कोई खास प्रावधान नहीं है। ऐसे में अब इसे सामान्य वस्तुओं के साथ मिला दिया गया है। एक अधिकारी के मुताबिक, ‘आयकर कानून में दो लाख से अधिक की वस्तुओं और सेवाओं की खरीद पर एक प्रतिशत का टीसीएस लगाने का प्रावधान है। वस्तुओं की परिभाषा में आभूषण भी आते हैं। ऐसे में नकदी में दो लाख से ज्यादा के गहनों की खरीद पर एक फीसद टीसीएस लगेगा। बड़ी राशियों के लेनदेन के जरिये काले धन के सृजन को रोकने के लिए बजट प्रस्ताव के बाद पांच लाख की सीमा को खत्म करने को संसद की मंजूरी मिल गई है।

टूंडला के पास मालगाड़ी से टकराई कालिंदी एक्सप्रेस, कोई हताहत नहीं

फीरोजाबाद। टूंडला से दिल्ली की ओर जा रही कालिंदी एक्सप्रेस (14723) रविवार देर रात पश्चिमी आउटर पर उसी लाइन पर आ रही मालगाड़ी से टकरा गई। इससे जोरदार धमाका हुआ। दुर्घटना में फिलहाल किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है।
बताया गया है कि दिल्ली जा रही कालिंदी सवा दो बजे टूंडला स्टेशन को पार करने के बाद पश्चिमी आउटर पर पहुंची थी, उसी पटरी पर मालगाड़ी आ रही। स्पीड पकड़ रही कालिंदी का इंजन मालगाड़ी से एसएलआर कोच में जा घुसा। इससे जोर का विस्फोट सा हुआ। दोनों गाडिय़ां पटरी से उतर गईं।

कालिंदी के चार कोच तो पूरी तरह पटरी से नीचे आ गए। धमाके के साथ सोते हुए यात्री सीटों से नीचे जा गिरे। इससे कई यात्रियों के चोट आई हैं। यात्रियों में चीख पुकार मच गई। ट्रेन दुर्घटना की जानकारी होते ही खेतों में पानी लगा रहे किसान दौड़े। दुर्घटना की सूचना कंट्रोल रूम को दी गई। मंडल रेल यातायात प्रबंधक डॉ. शिवम शर्मा अधिकारियों की टीम के साथ पहुंच गए। फोर्स बुला लिया गया।

फीरोजाबाद से पहुंचीं एंबुलैंस घायलों को लेकर अस्पताल गईं। पूरा रेल यातायात ठप हो गया, जो सुबह चार बजे तक चालू नहीं हुआ था। कोच को पटरी पर लाने के क्रेन पहुंच गई थीं। इंजन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था।

पाकिस्तान में शाहबाज कलंदर दरगाह पर IS का हमला, 100 की मौत

पाकिस्तान में बृहस्पतिवार को सूफी संत लाल शाहबाज कलंदर की दरगाह में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आत्मघाती हमले में कम से कम 100 लोगों की मौत हो गई। दर्जनों लोग घायल हैं। सिंध प्रांत के सहवान कस्बे में स्थित इस दरगाह में बृहस्पतिवार शाम को सूफी रस्म धमाल के चलते जायरीनों की भारी भीड़ थी, उसी समय आत्मघाती हमलावर ने खुद को ब्लास्ट कर उड़ा लिया। पाकिस्तान में एक सप्ताह के अंदर यह पांचवां आतंकी हमला है।
पुलिस ने बताया कि आत्मघाती हमलावर दरगाह के गोल्डन गेट से अंदर घुसा और ब्लास्ट कर दिया। इससे पहले उसने वहां एक ग्रेनेड भी फेंका, लेकिन वह फटा नहीं। सहवान थाने के एसएचओ रसूल बख्श ने बताया कि मरने वालों में बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं। आईएस ने अपनी अमाक समाचार एजेंसी के जरिए हमले की जिम्मेदारी ली है।

यह दरगाह शहर से काफी दूर है। दरगाह से सबसे नजदीक स्थित अस्पताल की दूरी भी 40 से 50 किमी है। बचाव अधिकारियों के मुताबिक पर्याप्त संख्या में एंबुलेंस मौजूद नहीं रहने से बचाव अभियान में काफी दिक्कत आई। जमशूरू के एसएसपी तारिक विलायत ने कहा कि आसपास के शहरों से एंबुलेंस सहवान भेजी गई हैं। हमले के बाद सरकार ने पास के जमशूरू और हैदराबाद शहरों के अस्पतालों में इमरजेंसी घोषित कर दी है। बचाव कार्य के लिए सेना ने सी130 विमान को लगा दिया है।
आईएस और तालिबान दरगाहों को निशाना बनाते रहे हैं

फी संत लाल शाहबाज कलंदर की दरगाहPC: DAWN
बृहस्पतिवार को धमाल के लिए इस दरगाह में बड़ी संख्या में जायरीन पहुंचते हैं। माना जा रहा है कि इसी वजह से हमले के लिए यह दिन चुना गया। टीवी चैनल की रिपोर्टों में दरगाह में लाशें बिखरी हुई दिख रही थीं। मालूम हो कि लाल शाहबाज कलंदर सूफी दार्शनिक और शायर थे। आईएस और तालिबान पाकिस्तान में सूफी दरगाहों को निशाना बनाते रहे हैं। वर्ष 2005 से अब तक मुल्क में करीब 25 दरगाहों पर हमला हो चुका है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने दरगाह पर हमले की तीखी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि है सूफी लोगों का पाकिस्तान के इतिहास में बड़ा योगदान रहा है। उन्होंने पाकिस्तान को बनाने के लिए बड़ा संघर्ष किया है। उन पर हमला जिन्ना के पाकिस्तान पर हमला है। इससे सख्ती से निपटा जाएगा। वहीं, सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा कि आतंकियों से खून के हर कतरे का हिसाब लेंगे।

शशिकला के करीबी पलानीस्वामी आज ले सकते हैं मुख्यमंत्री पद की शपथ

चेन्नई। तमिलनाडु के राज्यपाल सी विद्यासागर राव गुरूवार, यानि आज एआईएडीएमके पार्टी के नेता ईडाप्पाडी के पलानीस्वामी को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला सकते हैं।
एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार, पलानीस्वामी को 1 हफ्ते की भीतर सदन में बहुमत सिद्ध करने को कहा जा सकता है। राजभवन के सूत्रों का कहना है कि बुधवार शाम को पलानीस्वामी और कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने राज्यपाल से मुलाकात की, जिसके बाद संख्या बल के आधार पर पलानीस्वामी का दावा स्वीकार कर लिया गया।

एक सूत्र ने जानकारी दी है, ‘पलानीस्वामी ने 124 विधायकों के समर्थन की सूची राज्यपाल को सौंपी है, जबकि पन्नीरसेल्वम ने दावा किया है कि उनके पास 8 विधायकों का समर्थन हैं। राज्यपाल के पास फिलहाल पलानीस्वामी को आमंत्रित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।’ सूत्र के अनुसार, राज्यपाल ने उन सभी पहुलुओं पर विचार किया है जिनमें कहा जा रहा था कि कई विधायकों को रिजॉर्ट में कैद करके रखा गया है।
इससे पहले बुधवार साम को 7:30 बजे पलानीस्वामी ने तमिलनाडु के राज्यपाल सी विद्यासागर राव से मुलाकात कर उनसे आग्रह किया कि उन्हें सरकार बनाते का न्यौता दिया जाए। राज्यपाल से मुलाकात के बाद शशिकला के समर्थक डी. जयकुमार ने बताया ‘उन्होंने राज्यपाल से पलानीस्वामी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने की गुजारिश की है। हमें उम्मीद है कि राज्यपाल हमें जल्दी ही सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करेंगे।’
यह भी पढ़ें: ढाई करोड़ के गहने और 16 लाख की घडि़यां
उधर, जेल जाने से पहले शशिकला ने अपने उन रिश्तेदारों को फिर से पार्टी में शामिल कर लिया जिन्हें जयललिता ने पार्टी से निकाल दिया था। शशिकला ने अपने भतीजे और पूर्व राज्यसभा सदस्य दिनाकरण को अन्नाद्रमुक का उप महासचिव नियुक्त किया है।
दिनाकरण की नियुक्ति के बाद अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता वी. करप्पासामी पांडियन ने पार्टी के संगठन सचिव पद से इस्तीफा दे दिया। नाराज पांडियन ने जयललिता द्वारा निष्कासित लोगों को फिर से शामिल करने के शशिकला के अधिकार पर सवाल उठाया और कहा कि क्या अन्नाद्रमुक शशिकला की पारिवारिक संपत्ति है।

मेरे पास एक कार नहीं, लेकिन समाजवादियों के पास 200 लग्जरी गाड़ियां: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव के बीच यूपी के कन्नौज की रैली में समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा। मुलायम सिंह के बेटे प्रतीक यादव की महंगी और लग्जरी कारों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि उनके पास कोई कार नहीं, लेकिन समाजवादियों के पास 200 से ज्यादा मंहगी लग्जरी गाड़ियां हैं।

समाजवादी पार्टी के गढ़ कन्नौज में 5 करोड़ के समाजवादी कार पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, “मेरे पास एक भी कार नहीं है, लेकिन ये लोग जो खुद को समाजवादी कहते हैं… अपने पास महंगी और लग्जरी कारें रखते हैं.”

दरअसल, बीते दिनों मुलायम के दूसरे बेटे प्रतीक यादव अपनी पसंदीदा और 5 करोड़ की लैंबोर्गिनी कार के लिए सुर्खियों में थे. हालांकि, तब प्रतीक ने अपने बचाव में कहा था कि उन्होंने लोन पर कार ली है और उनके पास पूरे कागज हैं. उनका तर्क था कि वो इनकम टैक्‍स देते हैं, ऐसे में विवाद खड़ा करना ठीक नहीं है|

एक साथ 104 उपग्रह भेजकर इसरो रच देगा इतिहास

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) बुधवार को इतिहास बनाने के लिए पूरी तरह तैयार है|
आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से इसरो सुबह 9:28 बजे एक साथ 104 उपग्रहों को लाँच करने जा रहा है|
एक अंतरिक्ष अभियान में इससे पहले इतने उपग्रह एक साथ नहीं छोड़े गए हैं| इसरो का अपना रिकॉर्ड एक अभियान में 20 उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का है| इसरो ने ये कारनामा 2016 में किया था|
वैसे अब तक किसी एक अभियान में सबसे ज़्यादा उपग्रह भेजने का विश्व रिकॉर्ड रूस के नाम है, जिसने 2014 में एक अभियान में 37 उपग्रहों को भेजने का काम किया था|

भारत को अंतरिक्ष में भेजने वाली महिलाएं
नासा ने किया इसरो को सलाम
ज़ाहिर है, इसरो इन सब रिकॉर्ड को बहुत पीछे छोड़ देगा| इस अभियान में 104 उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेजा जा रहा है, जिनमें तीन तो भारत के हैं| जबकि बाक़ी के 101 सैटेलाइट्स इसराइल, कज़ाख़्स्तान, नीदरलैंड, स्विटज़रलैंड और अमरीका के हैं|
इस अभियान के बारे में जानकारी देते हुए इसरो के चेयरमैन एएस किरण कुमार ने मीडिया से कहा, “हम जिन सैटेलाइट को लाँच कर रहे हैं, उसमें एक 730 किग्रा का है, जब बाक़ी के दो का वजन 19-19 किग्रा है. इनके अलावा हमारे पास 600 किग्रा और वजन भेजने की क्षमता थी, इसलिए हमने 101 दूसरे सैटेलाइटों को भी लाँच करने का फ़ैसला लिया.”
पीएसएलवीइमेज कॉपीरइटEPA
रिकॉर्ड के अलावा ये भी होगा
किरण कुमार ने इस पूरे अभियान पर होने वाले खर्च का ब्यौरा तो नहीं बताया लेकिन ये स्पष्ट किया कि मिशन का आधा खर्च विदेशी सैटेलाइटों को भेजने से आ रहा है| हालांकि अनुमान है कि इसरो को विदेशी सैटेलाइटों से 100 करोड़ रूपये से ज़्यादा की आमदनी होगी|
वरिष्ठ विज्ञान पत्रकार पल्लव बागला ने बीबीसी से बातचीत में कहा, “ये महज रिकॉर्ड बनाने के लिए नहीं किया जा रहा है, बल्कि ये भारतीय अंतरिक्ष अभियान के साथ इसरो का कामर्शियल पहल भी है. मुश्किल काम है इसलिए दुनिया भर की नज़र इस पर टिकी है.”

सैटेलाइट लॉँच- भारत की मोटी कमाई का ज़रिया

जिन देशों के सैटेलाइट्स को इसरो लाँच करने जा रहा है, उसमें अमरीका और इसराइली सैटेलाइट भी शामिल हैं, जो ये बता रहे हैं कि सैटेलाइट प्रक्षेपण के बाज़ार में भारत बड़ी तेजी से अपनी जगह बना रहा है.
दरअसल पिछले कुछ सालों में भारत अंतरिक्ष प्रक्षेपण के बाज़ार में भरोसेमंद प्लेयर बनकर उभरा है. बीते कुछ सालों में भारत ने दुनिया के 21 देशों के 79 सैटेलाइट को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया है, जिसमें गूगल और एयरबस जैसी बड़ी कंपनियों के सैटेलाइट शामिल रहे हैं|

इसरोइमेज कॉपीरइटEPA
ऐसे में बुधवार को एक साथ ही 104 सैटेलाइट को भेजने के बाद इस बाज़ार में भारत की जगह और मज़बूत होगी. इसकी सबसे बड़ी वजह तो यही है कि अमरीका की तुलना में भारत से किसी सैटेलाइट को अंतरिक्ष में भेजने का खर्चा करीब 60-65 फ़ीसदी कम होता है, मोटे तौर पर महज एक तिहाई खर्च में भारत किसी का सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेज सकता है|
चीन से भारत की होड़
भारत में उपलब्ध सस्ता श्रम के अलावा कम लागत की वजह इसरो का सरकारी तंत्र होना भी है. हालांकि भारत को इस सस्ते बाज़ार में भी चीन से होड़ लेनी पड़ रही है, क्योंकि चीन भी सस्ते दर पर अंतरिक्ष में उपग्रहों को भेजने के लिए बड़ा बाज़ार है|
पल्लव बागला के मुताबिक भारत इस बाज़ार में चीन को तभी चुनौती दे पाएगा जब वह बड़े बड़े सैटेलाइटों को प्रक्षेपित करेगा|
बागला कहते हैं, “अंतरिक्ष के कार्मिशयल लांचर का जो बाज़ार है उसमें छोटे सैटेलाइट का हिस्सा बहुत कम है, बड़े सैटेलाइट को भेजने से ज़्यादा पैसा आता है.”
इसरोइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES
इसके अलावा चीन अपने अंतरिक्ष अभियान पर भारत की तुलना में ढाई गुना ज्यादा पैसा खर्च कर रहा है और उसके पास सैटेलाइटों को लाँच करने की क्षमता भी चार गुना ज़्यादा है.
मौजूदा स्थिति में भारत में हर साल में पांच सैटेलाइट अभियान लाँच कर सकता है जबकि चीन की क्षमता 20 अभियान लाँच करने की है. बावजूद इस अंतर के अंतरिक्ष बाज़ार में भारत और चीन की होड़ को जानकर उसी तरह से देख रहें जिस तरह की होड़ कभी अमरीका और सोवियत रूस में हुआ करती थी.
बहरहाल, भारत जिस तरह से 104 उपग्रहों को एक साथ भेजने की कोशिश कर रहा है उससे प्राइवेट प्लेयरों में भी उम्मीद पैदा की है. बेंगलुरू स्थित टीम इंडस को भरोसा है कि मौजूदा वातावरण का उसे फ़ायदा मिलेगा. टीम इंड्स चंद्रमा पर सैटेलाइट भेजने वाली पहली निजी कंपनी बनने के लिए प्रयास कर रही है.